Mile Ho Tum Lyrics – Reprise Version | Neha Kakkar

Mile Ho Tum Lyrics – Reprise Version (मिले हो तुम Lyrics in Hindi) from album Fever: This song is beautifully sung by Neha Kakkar, Tony Kakkar, and has music by Tony Kakkar while Tony Kakkar has written the Mile Ho Tum song lyrics. The song is from Rajeev Jhaveri directed Hindi feature film Fever (2016) starring Rajeev Khandelwal, Gauahar Khan, Gemma Atkinson, Victor Banerjee, Caterina Murino, Ankita Makwana.

Mile Ho Tum Lyrics - Reprise Version

Movie/album: Fever (2016)
Singers: Neha Kakkar, Tony Kakkar
Song Lyricist: Tony Kakkar
Music Composer: Tony Kakkar
Music Director: Tony Kakkar
Genres: Love
Director: Rajeev Jhaveri
Music Label: Zee Music Company
Starring: Rajeev Khandelwal, Gauahar Khan, Gemma Atkinson, Victor Banerjee, Caterina Murino, Ankita Makwana

Mile Ho Tum Lyrics – Reprise Version

Mile Ho Tum Humko
Bade Naseebon Se
Churaya Hai Maine
Kismat Ki Lakeeron Se

Mile Ho Tum Humko
Bade Naseebon Se
Churaya Hai Maine
Kismat Ki Lakeeron Se

Teri Mohabbat Se Saansein Mili Hain
Sada Rehna Dil Mein Kareeb Hoke

Mile Ho Tum Humko
Bade Naseebon Se
Churaya Hai Maine
Kismat Ki Lakeeron Se

Mile Ho Tum Humko
Bade Naseebon Se
Churaya Hai Maine
Kismat Ki Lakeeron Se

Teri Chahaton Mein Kitna Tadpe Hain
Saawan Bhi Kitne Tujh Bin Barse Hain
Zindagi Mein Meri Saari Jo Bhi Kami Thi
Tere Aa Jaane Se Ab Nahi Rahi

Sadaa Hi Rehna Tum
Mere Kareeb Hoke
Churaya Hai Maine
Kismat Ki Lakeeron Se

Mile Ho Tum Humko
Bade Naseebon Se
Churaya Hai Maine
Kismat Ki Lakeeron Se

Baahon Mein Teri Ab Yaara Jannat Hai
Maangi Khuda Se Tu Woh Mannat Hai
Teri Wafa Ka Sahara Mila Hai
Teri Hi Wajah Se Ab Main Zinda Hoon

Teri Mohabbat Se Zara Ameer Hoke
Churaya Hai Maine Kismat Ki Lakeeron Se
Mile Ho Tum Humko Bade Naseebon Se
Churaya Hai Maine Kismat Ki Lakeeron Se.

मिले हो तुम हमको, बड़े नसीबों से
चुराया है मैंने क़िस्मत की लकीरों से
मिले हो तुम हमको, बड़े नसीबों से
चुराया है मैंने क़िस्मत की लकीरों से
तेरी मोहब्बत से साँसें मिली हैं
सदा रहना दिल में क़रीब होके
मिले हो तुम हमको, बड़े नसीबों से
चुराया है मैंने क़िस्मत की लकीरों से
मिले हो तुम हमको, बड़े नसीबों से
चुराया है मैंने क़िस्मत की लकीरों से
तेरी चाहतों में कितना तड़पे हैं
सावन भी कितने तुझ बिन बरसे हैं
ज़िन्दगी में मेरी सारी जो भी कमी थी
तेरे आ जाने से अब नहीं रही
सदा ही रहना तुम मेरे करीब होके
चुराया है मैंने क़िस्मत की लकीरों से
मिले हो तुम हमको बड़े नसीबों से
चुराया है मैंने क़िस्मत की लकीरों से
बाँहों में तेरी अब यारा जन्नत है
माँगी खुदा से तू वो मन्नत है
तेरी वफ़ा का सहारा मिला है
तेरी ही वजह से अब मैं ज़िन्दा हूँ
तेरी मोहब्बत से ज़रा अमीर होके
चुराया है मैंने क़िस्मत की लकीरों से
मिले हो तुम हमको बड़े नसीबों से
चुराया है मैंने क़िस्मत की लकीरों से

 

You may also like...

close