Dil Galti Kar Baitha Hai Lyrics – Sehar Gul Khan | Qawwali

Dil Galti Kar Baitha Hai Lyrics – by Asim Raza (दिल गलती कर बैठा है Qawwali) Song suny by Sehar Gul Khan, Dil Galti Kar Baitha Hai, Galti Kar Baitha lyrics are written Asim Raza while music composed Soach Band.

Song:Bol Kaffara Kya Hoga (Dil Galti Kar Baitha Hai)
Singer:Sehar Gul Khan
Music:Soach Band
Lyrics:Asim Raza
Label:Lokdhun

Dil Galti Kar Baitha Hai Lyrics

Tasqeen Dil Ki Khateer Tum Bichhdte Waqt Muskurate Raho
Wo Jane Wale Door Jaate Huye Palat Palat Ke Nazar Milate Raho

Dil Galti Kar Baitha Hai, Galti Kar Baitha
Hai Dil
Dil Galti Kar Baitha Hai, Galti Kar Baitha
Hai Dil
Dil Galti Kar Baitha Tu Bol Kaffara Kya Hoga

Mere Dil Ki Dil Se Tauba, Dil Se Tauba Mere
Dil Ki
Mere Dil Ki Dil Se Tauba, Dil Se Tauba Mere
Dil Ki
Dil Ki Tauba Ae Dil Ab Pyar Dobara Na Hoga

Tu Bol Kaffara, Kaffara Bol Kaffara, Tu Bol
Kaffara, Kaffara Bol Kaffara, Kaffara Bol
Wo Yaara, Wo Yaara Bol Kaffara Kya Hoga

Jugnu Jugnu Kar Ke, Tere Milne Ki Deep
Jalaye Hai
Humne Jugnu Jugnu Kar Ke, Tere Milne
Ki Deep Jalaye Hai
Akhiyon Me Moti Bhar Bhar Ke, Tere Hizar
Mein Haath Uthaye Hai

Tere Naam Ke Harf Ki Tasbeeh Ko, Saanson
Ke Gale Ka Haar Kiya, Duniya Bhooli Aur Sirf
Tujhe Haan Sirf Tujhe Hi Pyar Kiya

Tumhe Hum Se Badh Kar Duniya, Duniya
Tumhe Hum Se Badh Kar
Tumhe Hum Se Badh Kar Duniya, Duniya
Tumhe Hum Se Badh Kar
Humko Tumse Badh Kar Koi Jaan Se Pyara
Na Hoga

Mere Dil Ki Dil Se Tauba, Dil Se Tauba Mere
Dil Ki
Dil Ki Tauba Ae Dil Ab Pyar Dobara Na Hoga

Tu Bol Kaffara, Kaffara Bol Kaffara, Tu Bol
Kaffara, Kaffara Bol Kaffara, Kaffara Bol
Wo Yaara, Wo Yaara Bol Kaffara Kya Hoga

Dil Galti Kar Baitha Hai Lyrics In Hindi

तसकीन दिल की खातिर तुम बिछड़ते वकत मुस्कुराते रहो
वो जाने वाले दूर जात्ते हुए पलट के नज़र मिलाते रहो

दिल गलती कर बैठा है,गलती कर बैठा है दिल
दिल गलती कर बैठा है,गलती कर बैठा है दिल।
दिल गलती कर बैठा है तू बोल कफारा क्या होगा

मेरे दिल की दिल से तौबा ,दिल से तौबा मेरे दिल की
मेरे दिल की दिल से तौबा ,दिल से तौबा मेरे दिल की
मेरे दिल की तौबा के दिल अब प्यार दोबारा ना होगा

तू बोल कफारा कफारा बोल कफारा
तू बोल कफारा कफारा बोल कफारा
कफारा बोल वो यारा कफारा क्या होगा

हमने जुगनू जुगनू करके तेरे मिलन के दीप जलाये है
हमने जुगनू जुगनू कर के तेरे मिलन के की दीप जलाये है
अखियों में मोती भर भर के तेरे हिज़्र में हाथ उठाये है
तेरे नाम के हर्फ़ की तस्बीह को सांसो के गले का हार किया
दुनिया भूली सिर्फ हा सिर्फ तुझे ही प्यार किया

तुम्हे हम से बढ़ कर दुनिया,दुनिया तुम्हे हम से बढ़ कर
तुम्हे हम से बढ़ कर दुनिया,दुनिया तुम्हे हम से बढ़ कर
हमको तुम से बढ़ कर कोई जान से प्यारा ना होगा

तू बोल कफारा कफारा बोल कफारा
तू बोल कफारा कफारा बोल कफारा
कफारा बोल वो यारा कफारा क्या होगा

हमे थी गरज़ तुम से और तुम्हें बेगरज होना था
तुम्हे ही लादवा होकर हमारा मर्ज़ होना था
चलो हम फ़र्ज़ करते है के तुम से प्यार करते है
मगर इस प्यार को भी किया हमी से फर्ज होना था

धड़कन धड़कन धरके धरके हम ने धड़कन धड़कन
दिल तेरे दिल से जोर लिया आंखों ने आंखे पढ़ पढ़ के तुझे विरद बना के
याद किया तुझे प्यार किया तो तू ही बता हमने क्या कोई जुर्म किया
और जुर्म किया है तो भी बता ये जुर्म के जुर्म की क्या है सजा

तुम जित गए हम हारे तुम हारे और तुम जीते
तुम जित गए हम हारे तुम हारे और तुम जीते
तुम जीत गए हो लेकिन हम सा कोई हारा ना होगा

तू बोल कफारा कफारा बोल कफारा
तू बोल कफारा कफारा बोल कफारा
कफारा बोल वो यारा कफारा क्या होगा

You may also like...

close